रूट क्या है ? रूट करने के फायदे & रूट करने के नुकसान? अपने एंड्रॉयड फोन को रूट करना चाहिए या नहीं? रूट करते समय यह ध्यान रखें? एंड्राइड फोन रूट कैसे करें?


रूट क्या है ? रूट करने के फायदे & रूट करने के नुकसान? अपने एंड्रॉयड फोन को रूट करना चाहिए या नहीं? रूट करते समय यह ध्यान रखें? एंड्राइड फोन रूट कैसे करें?


  अगर आप एक Android यूजर हो और आपने कहीं ना कहीं Root नाम  सुना नही यह हो नहीं सकता ।लेकिन कई लोगों को पता नहीं है कि Root होता क्या है अपने एंड्रॉयड डिवाइस को रूट करने के क्या फायदे और क्या नुकसान है, अपने एंड्रॉयड फोन को रूट कैसे करें यह सभी सवाल के जवाब आपको इस पोस्ट पर देखने के लिए मिल जाएंगे।


रूट क्या है ? Root Ky hai?

 Root क्या है? यह आज मैं आपको बताने वाला हूं Root पर आप जो है, अपने एंड्रॉयड डिवाइस में दूसरी सुपर पावर दे रहे हैं, यानी कि आप अपने एंड्रॉयड डिवाइस की सभी प्राइवेसी पॉलिसी या  सिक्योरिटी  सभी को आप जो है खत्म कर देते हो, Root यह एक परमिशन की तरह है, आपके फोन में यह परमिशन इनेबल करने पर आप जो है, अपने मोबाइल फोन के साथ कुछ भी कर सकते हो, यानी कि आप अपने फोन को सुपर पावर दे सकते हो आप जो है अपने फोन के सॉफ्टवेयर के साथ छेड़छाड़ कर सकते हो। यानी कि अगर आपका फोन रूटेड है तो आप अपने फोन में कोई भी ऑपरेटिंग सिस्टम चेंज कर सकते हो या फिर आप अपने फोन में फेस अनलॉक ऐड कर सकते हो, अपने फोन की रैम बढ़ा सकते हो और अपने फोन का कर्नल चेंज कर सकते हो और बहुत सारी चीजें आप जो है अपने फोन के साथ कर सकते हो। 


Root करने के फायदे और नुकसान  तो बहुत सारे हैं जो आगे मैं आपको बताने वाला हूं। लेकिन आप जो है अगर आपने एंड्रॉयड डिवाइस को रूट किया तो आपका फोन जो है आप अपने फोन में कुछ भी एक कस्टमाइजेशन कर सकते हो। अपने फोन की परफॉर्मंस भी बढ़ा सकते हो, या फिर अपने फोन को बैटरी लाइफ बड़ा सबसे हो। कुछ एंड्रॉयड डिवाइस में जो है स्क्रीन रिकॉर्डर का ऑप्शन नहीं दिया होता आप अगर अपने एंड्रॉयड डिवाइस को Root कर देते हो तो आप जो है, इस स्क्रीन रिकॉर्डर अपने फोन में यूज कर सकते हो और अपने फोन का फोंट चेंज कर सकते हो। अपने फोन का Android वर्जन जो है वह बढ़ा सकते हो यानी कि आपका एंड्राइड 9 है तो आप उसे Android 10,11 बहुत ही आसानी से कर सकते हो।


 हमें जोर से Android फोन के सिस्टम फाइल को एक्सेस करने की परमिशन नहीं होती है। जिससे हम हमारे फोन में कोई भी Costamaiz नहीं कर सकते लेकिन जब हम ROOT करते हैं, तो हमारे फोन में हम हमारे सिस्टम फाइल को एडिट या कट कॉपी कुछ भी कर सकते हैं जिससे हम अपने फोन को कस्टमाइज कर सकते हैं और हमारे फोन में फीचर्स को ऐड कर सकते हैं।


 रूट करने के फायदे-

 अपने फोन का एंड्रॉयड वर्जन बढ़ा सकते हो-

 आप जो है अपने Phone को Root करके अपने फोन का एंड्रॉयड वर्जन बढ़ा सकते हो। यानी कि अगर आपका फोन एंड्राइड 9 पर है, तो आप उसे एंड्राइड 10 या एंड्रॉयड 11 में अपडेट कर सकते हो। इसके फीचर से आप जो है अपने फोन में है एंड्रॉयड 10 या एंड्रॉयड 11 के सभी फीचर्स का मजा उठा सकते हो

  एंड्राइड के फ्री इंस्टॉल एप को  डिलीट कर सकते हो-

 आपने देखा होगा कि हम कोई भी नया  फोन लेते हैं, तो उसमें पहले से ही कुछ Free Apps आ जाते हैं जो डिलीट नहीं होते तो Root करने के बाद उन ऐप को आप डिलीट कर सकते हो।


 अपने फोन की परफॉर्मेंस बैटरी लाइफ बड़ा सकते हो-

 Root करने के बाद आप अपने फोन में मैजिक मैनेजर इंस्टॉल करके या फिर अपने फोन के कर्नल को चेंज करके अपने फोन की बैटरी लाइफ या परफॉर्मंस बढ़ा सकते हो। आप मैं Magisk जरिए नए-नए गेनिंग मॉड्यूल बैटरी बैकअप के मॉड्यूल इंस्टॉल करके अपने फोन की परफॉर्मंस और बैटरी लाइफ बड़ा सकते हो।


 अपने फोन की रैम और रोम बढ़ा सकते हो-

 आप जो है Root करने के बाद अपने फोन की रैम और रोम बढ़ा सकते हो। आप माइक्रो एसडी कार्ड का यूज करके अपने फोन की इंटरनल स्टोरेज या Ram को बहुत ही आसानी से बढ़ा सकते हो। जिसकी मदद से आप के फोन की स्पीड बढ़ जाएगी।


 रूट करने के नुकसान-

 एंड्राइड फोन की वारंटी खत्म हो जाएगी-

 अगर आपने New Phoneपरचेस किया है, जिसकी वारंटी अभी बाकी है। अगर आपने उस Phone को रूट कर दिया तो उस फोन की वारंटी जो है खत्म हो जाएगी। अगर वह फोन को कुछ हो गया तो आपको उसे अपने पैसों से सुधारना पड़ेगा आपको कोई भी वारंटी गारंटी देखने के लिए नहीं मिलेगी, लेकिन आजकल कुछ फोन आते हैं जिसमें आप को Root करने पर भी आप की वारंटी गारंटी खत्म नहीं होती।


 एंड्रॉयड फोन  सॉफ्ट ब्रेक या हार्टब्रेक  हो सकता है-

 अगर आपको Phone Root करते समय कुछ गलती कर देते हो तो, आपका फोन जो है हार्ड ब्रेक या सॉफ्ट ब्रेक हो सकता है। यानी कि आपका फोन जो है पूरी तरीके से बंद हो जाएगा आपको वह कुछ नहीं कर सकते आप उसमें ना ही कोई ऑपरेटिंग सिस्टम  install या phone को On हीं कर सकते।


 एंड्राइड फोन में वायरस आने की संभावना-

 अगर आपने अपने Phone को Root किया है और आपने कहा थर्ड पार्टी ऐप इंस्टॉल कर लिए हैं, तो उन एप्स के साथ जो है आपके फोन में वायरस या मालवेयर आने की संभावना बढ़ जाती है जिससे आपके फोन को खतरा है।


 अपने एंड्रॉयड फोन को रूट करना चाहिए या नहीं-


 आपने जो है Root के अच्छाई और बुराई देख ली होगी आप सोच रहे होंगे कि हम अपने फोन को Root करें या ना करें तो मैं आपको बताने वाला हूं कि आप अपने फोन को रूट करना चाहिए या नहीं करना चाहिए तो कब करना चाहिए या फिर नहीं।


 अगर आपका Phone जो है New है, और आपको फोन लेकर जो है 1 से 2 साल हो रहा है तो आपको आपका एंड्राइड फोन रूट नहीं करना चाहिए। क्योंकि वह फोन जो है अभी New होता है और वह जो है अच्छी तरीके से चलता है कोई भी आपको एक दो साल तक लागू या फिर कुछ भी देखने के लिए नहीं मिलेगा। लेकिन अगर आपका फोन 3 या फिर 4 साल पुराना है, तो आपको जरूर रूट करना चाहिए क्योंकि वह जो है बहुत पुराना हो जाता है। कंपनी से उसे अपडेट आने बंद हो जाते हैं, और Root कर के जो है अपने फोन का एंड्रॉयड वर्जन बढ़ा सकते हो और आप जो है अपने फोन की रैम और इंटरनल स्टोरेज को बढ़ा सकते हो बहुत ही आसानी से अगर आपका New फोन है। तो आप उसे Root बिल्कुल ही मत करना अगर आपको वह हो फोन लेकर 3 या 4 साल हो गए तो आप Root कर सकते हो बहुत ही आसानी से आप अपने एंड्रॉयड फोन को रूट कर सकते हो।


रूट करते समय यह ध्यान रखें-

 ROOT करते समय आपको कुछ चीजों का ध्यान रखना पड़ता है। जैसे कि अपने फोन में रूट करने से पहले आपको अपने फोन की बैटरी 90% और 99% तक रखनी है। अपने फोन में का जो डाटा है जैसे की फोटोस वीडियोस व्हाट्सएप उन सभी का बैकअप बना लेना है, Root करने पर सब कुछ डिलीट हो जाएगा Root करते समय आपको अपने फोन में कस्टम रिकवरी ऐड करनी पड़ेगी तो आप अपने फोन के अकॉर्डिंग  से कस्टम रिकवरी डाउनलोड करके इंस्टॉल कीजि Root होते समय अपने फोन के साथ कुछ भी छेड़छाड़ ना करें इस बीच अगर आपको कुछ आपके फोन को कुछ हुआ तो आपका फोन जो है ब्रेक भी हो सकता है।


 एंड्राइड फोन रूट कैसे करें-

 अगर आपको भी अपने Phone को Root करना है तो सबसे पहले आपको अपने Phone के Boot Loder को इनेबल करना पड़ेगा इसे इनेबल करने के लिए आपको कंप्यूटर या लैपटॉप की जरूरत लगेगी आप उसकी मदद से अपने फोन के बूट लोडर को अनलॉक कर सकते हो।


 मार्केट में इतने सारे Phone है सभी फोन को रूट करने के अलग अलग तरीके होते हैं, वह जो है आप अपने फोन के अकॉर्डिंग यूट्यूब पर सर्च कर कर अपने फोन को रूट कर सकते हो। हर फोन का Root करने का तरीका अलग अलग होता है। अगर आपको अपना फोन Root करना है तो आप यूट्यूब या गूगल पर अपने फोन का नाम और मॉडल नंबर डालकर सर्च कर सकते हो। आपको बहुत सारे वीडियो और मेथड दिखाई देंगे उसकी मदद से आप जो है बड़ी आसानी से अपने एंड्रॉयड डिवाइस को Root कर सकते हो।



 अगर आपको यह हमारा पोस्ट अच्छा लगा तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर कीजिए ताकि और भी लोगों को पता चल सके कि रूट क्या होता है रूट के एडवांटेज और डिसएडवांटेज क्या होते हैं और अगर हमसे कुछ गलती हो गई तो आप हमें कमेंट कर सकते हैं।

 

Post a Comment

Please Do not sent a spam link in comment box